आदर्शों और सिद्धांतों की राह….!

vidyarthi vikas sansthan
आदर्शों और सिद्धांतों की राह….!

क्षणिक भावावेश में आकर आदर्शों और सिद्धांतों की राह पर बढ़ने का संकल्प तो कई लोग कर लेते हैं पर दृढ़ता के अभाव में वे प्रलोभनों से विचलित हो जाते हैं। परंतु लाल बहादुर शास्त्री जी कभी भी अपने आदर्शों से विचलित नहीं हुए।

लाल बहादुर जी के विद्यालय के पास ही अमरूद (जामफल) का एक बगीचा था। जब वे पाँचवीं कक्षा में पढ़ते थे, तब एक दिन उनके चार-पाँच शरारती दोस्त अमरूद तोड़कर खाने के इरादे से बगीचे की जा निकले। वे लाल बहादुरजी को भी अपने साथ ले गये। बगीचे की छोटी दीवार को जब वे लड़के लाँघने लगे, तब लालबहादुर जी ने अंदर जाने से आनाकानी की लेकिन साथियों ने उन्हें अंदर कूदने के लिए मजबूर कर दिया। वे अंदर तो गये पर अमरूद न तोड़कर चुपचाप एक तरफ खड़े हो गये। लेकिन उन्होंने गुलाब का एक फूल जरूर तोड़ लिया।

इसी बीच अचानक माली वहाँ आ धमका। सब लड़के भाग गये पर लालबहादुर जी यह सोचकर खड़े रहे कि “जब मैंने चोरी नहीं की तो माली मुझ पर क्यों बिगड़ेगा ?” पर हुआ इसका उलटा। माली ने उन्हें ही पकड़ लिया और अमरूद न तोड़ने की उनकी सफाई पर बिना ध्यान दिये दो चाँटे लगा दिये। लालबहादुर जी रोने लगे और सिसकते हुए बोलेः “मुझे मत मारो। मैं बिना बाप का लड़का हूँ।” माली ने उन्हें दो चाँटे और लगाये और बिगड़कर बोलाः “बिना बाप का है तब तेरी यह करनी है। तुझे तो नेक चलन वाला और ईमानदार होना चाहिए। जा, भाग जा यहाँ से।”

इस घटना का लालबहादुर जी के बाल मन पर भारी प्रभाव पड़ा। उन्होंने मन-ही-मन निश्चय किया कि ʹभविष्य में मैं ऐसा कोई काम नहीं करूँगा, जिससे मेरी या मेरे परिवारवालों की बदनामी हो और मुझे नीचा देखना पड़े।ʹ वे भारत के प्रधानमंत्री बने तब भी एक दिन भी अपने इस आदर्श से विचलित नहीं हुए। उऩ्होंने अपने उज्जवल, निःस्वार्थ जीवन में भ्रष्टाचार का दाग नहीं लगने दिया।

10301966_749079015147059_2724652804129006929_n

Advertisements

आदर्श विद्यार्थी की पहचान

 

vidyarthi vikas sansthan
आदर्श विद्यार्थी की पहचान

बच्चा सहज, सरल, निर्दोष और भगवान का प्यारा होता है। बच्चों में महान होने के कितने ही गुण बचपन में ही नज़र आते हैं। जिससे बच्चे को आदर्श बालक कहा जा सकता है। ये गुण निम्नलिखित हैं-

  1. वह शांत स्वभाव होता हैः जब सारी बातें उसके प्रतिकूल हो जाती हैं या सभी निर्णय उसके विपक्ष में हो जाते हैं, तब भी वह क्रोधित नहीं होता।

  1. वह उत्साही होता हैः जो कुछ वह करता है, उसे अपनी योग्यता के अनुसार उत्तम से उत्तम रूप में करता है। असफलता का भय उसे नहीं सताता।

  1. वह सत्यनिष्ठ होता हैः सत्य बोलने में वह कभी भय नहीं करता। उदारतावश कटु व अप्रिय सत्य भी नहीं कहता।

  1. वह धैर्यशील होता हैः वह अपने सतकर्म में दृढ़ रहता है। अपने सतकर्मों का फल देखने के लिए भले उसे लम्बे समय तक प्रतीक्षा करनी पड़े, फिर भी वह धैर्य नहीं छोड़ता, निरूत्साहित नहीं होता है। अपने कर्म में डटा रहता है।

  1. वह सहनशील होता हैः सहन करे वह संत इस कहावत के अनुसार वह सभी दुःखों को सहन करता है। परंतु कभी इस विषय में शिकायत नहीं करता है।

  1. वह अध्यवसायी होता हैः वह अपने कार्य में कभी लापरवाही नहीं करता। इस कारण उसको वह कार्य भले ही लम्बे समय तक जारी रखना पड़े तो भी वह पीछे नहीं हटता।

  1. वह समचित्त होता हैः वह सफलता और विफलता दोनों अवस्थाओं में समता बनाये रखता है।

  1. वह साहसी होता हैः सन्मार्ग पर चलने में, लोक-कल्याण के कार्य करने में, धर्म का अनुसरण व पालन करने में, माता-पिता व गुरूजनों की सेवा करने व आज्ञा मानने में कितनी भी विघ्न-बाधाएँ क्यों न आयें, वह जरा-सा भी हताश नहीं होता, वरन् दृढ़ता व साहस से आगे बढ़ता है।

  1. वह आनन्दी होता हैः वह अनुकूल-प्रतिकूल परिस्थितियों में प्रसन्न रहता है।

  1. वह विनयी होता हैः वह अपनी शारीरिक-मानसिक श्रेष्ठता एवं किसी प्रकार की उत्कृष्ट सफलता पर कभी गर्व नहीं करता और न दूसरों को अपने से हीन या तुच्छ समझता है।विद्या ददाति विनयम्।

  1. वह स्वाध्यायी होता हैः वह संयम, सेवा, सदाचार व ज्ञान प्रदान करने वाले उत्कृष्ट सदग्रन्थों तथा अपनी कक्षा के पाठ्यपुस्तकों का अध्ययन करने में ही रूचि रखता है और उसी में अपना उचित समय लगाता है, न कि व्यर्थ की पुस्तकों में जो कि उसे इन सदगुणों से हीन करने वाले हों।

  1. वह उदार होता हैः वह दूसरों के गुणों की प्रशंसा करता है, दूसरों को सफलता प्राप्त करने में यथाशक्ति सहायता देने के लिए बराबर तत्पर रहता है तथा उनकी सफलता में खुशियाँ मनाता है। वह दूसरों की कमियों को नज़रंदाज करता है।

  1. वह गुणग्राही होता हैः वह मधुमक्खी की तरह मधुसंचय की वृत्तिवाला होता है। जैसे मधुमक्खी विभिन्न प्रकार के फूलों के रस को लेकर अमृततुल्य शहद का निर्माण करती है, वैसे ही आदर्श बालक श्रेष्ठ पुरुषों, श्रेष्ठ ग्रन्थों व अच्छे मित्रों से उनके अच्छे गुणों को चुरा लेता है और उनके दोषों को छोड़ देता है।

  1. वह ईमानदार और आज्ञाकारी होता हैः वह जानता है कि ईमानदारी ही सर्वोत्तम नीति है। माता-पिता और गुरू के स्व-परकल्याणकारी उपदेशों को वह मानता है। वह जानता है कि बड़ों के आज्ञापालन से आशीर्वाद मिलता है और आशीर्वाद से जीवन में बल मिलता है। ध्यान रहेः दूसरों के आशीर्वाद व शुभकामनाएँ सदैव हमारे साथ रहते हैं।

  1. वह एक सच्चा मित्र होता हैः वह विश्वसनीय, स्वार्थरहित प्रेम देनेवाला, अपने मित्रों को सही रास्ता दिखाने वाला तथा मुश्किलों में मित्रों का पूरा साथ देने वाला मित्र होता है।